सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विशेष

परिपक्व होइत मैथिली गजल: समीक्षा

ई कहब से कोनो अतिशयोक्ति नहिं जे 'मैथिली गजल' किछु साल पूर्व टिकुले रहए आइ बेस कोशा बनि तैयार भ ऽ  रहल छैक फल देबा लेल, तहियो में जँ सहजता पूर्वक मैथिलीक अपन गजलशाश्त्र भेटि जाए अन्चिनहार आखरक रूपमे तखन गजल लेल बेसी मेहनति क ऽ  खगते नहिं रहि जाइत छैक । अन्चिनहार आखरक रूपमे ई एकटा एहेन गजलशाश्त्र भेटल अछि जे मैथिली गजलकेँ अरबी, फारसी ओ उर्दू गजलक समकक्ष पहुँचेबामे समर्थ सिद्ध भ ऽ  रहल अछि। मैथिली गजलक एकटा सुप्र सिद्ध नाम जे भारत सँ ल ऽ  क ऽ  नेपाल धरि अपन गजलसँ श्रोताक माँझ एकटा भिन्न छाप छोड़निहार गजलकार श्री 'कुन्दन कुमार कर्ण' जी केँ किछु गजल- kundangajal.com केर माध्यम सँ आ किछु हुनक फेसबुकक भीतसँ पढ़बाक मौका भेटैत रहैत अछि जे हमरा लेल सौभाग्यक गप्प छै ।  हुनक किछु गजल पर हम अपन विचार राखि रहल छी । 12 मई 2020 क ऽ  एकटा बाल गजल जे शाइरक अपन वेवसाईटपर प्रेशित कएल गेल छन्हिं जे निम्नलिखित अछिः हमर सुन्नर गाम छै  फरल ओत' आम छै  विपतिमे संसार यौ  प्रकृति जेना बाम छै  निकलि बाहर जाउ नै  बिमारी सभ ठाम छै  सफा आ स्वस्थ्य रहब  तखन कोनो काम छै  जनककें सन्तान हम  जनक

गजल - दर्दसँ भरल गजल छी हम

दर्दसँ भरल गजल छी हम शोकसँ सजल महल छी हम सुख केर आशमे बैसल दुखमे खिलल कमल छी हम भितरी उदास रहितो बस बाहरसँ बनि हजल छी हम जिनगी कऽ बाटपर सदिखन सहि चोट नित चलल छी हम कुन्दन सुना रहल अछि ई संघर्षमे अटल छी हम मात्रा क्रम : 2212-1222 © कुन्दन कुमार कर्ण

माहिया

रुबाई

बात मोनक अहांसँ कहि रहल छी हम दर्द जे देलौं से सहि रहल छी हम हँसैत रहै छी हियापर राखि पत्थर विरहक संग असगर रहि रहल छी हम

गजल - धधरा नेहक हियामें धधकैत रहि गेलै

धधरा नेहक हियामें धधकैत रहि गेलै बनि शोणित नोर आँखिसँ टपकैत रहि गेलै सपना छल प्रेम करितै केओ अपन जानिक सोचिक ई मोन सदिखन बहकैत रहि गेलै बेगरता बुझि सकल केओ नै जरल मोनक धरकन दिन राति जोरसँ धरकैत रहि गेलै ऐबे करतै सजिक मोनक मीत जिनगीमें सभ दिन ई आँखि खन–खन फरकैत रहि गेलै दाबिक सभ बात मोनक कुन्दन जबरदस्ती जगमें बनि फूल तखनो गमकैत रहि गेलै मात्राक्रम : 2222-122-221-222 © कुन्दन कुमार कर्ण

गजल - जिनगी एक वरदान छी

जिनगी एक वरदान छी दैवक देलहा दान छी राखू सोच मोनक सही जिनगी पैघ सम्मान छी कर्मक बाटपर नित चलू कर्में पूर्ण पहचान छी बुझि संघर्ष जियबै जखन जिनगी शान अभिमान छी कुन्दन बुझि चलल बात ई जिनगी दू दिनक चान छी 2221+2212 बहरे – मुक्तजिब © कुन्दन कुमार कर्ण www.facebook.com/kundan.karna

Ghazal - Keep smile on your lip dear

Keep smile on your lip dear Doing love not cheap dear I want to be your dream Think about in deep dear If you give me your hand You will never slip dear This is real voice of heart Don't treat as gossip dear 'Kundan' is your lucky boy You got good friendship dear Hexameter (each line contains 6 syllables) By : © Kundan Kumar Karna

गजल : नेताक भेषमें सभ कामचोर छैक

नेताक भेषमें सभ कामचोर छैक तामससँ लोक देशक तेँ अघोर छैक चुल्हा गरीबके दिन राति छैक बन्द जे छैक भ्रष्ट घर ओकर इजोर छैक ककरा करत भरोसा आम लोक आब निच्चा अकान उप्पर घूसखोर छैक चाही विकास चाही नै विनाश आब जनताक ठोरपर मचिगेल शोर छैक आलोचना करत 'कुन्दन' कतेक आर जे चोर ओकरे मुँह एत जोर छैक मात्राक्रम :  221-212-221-2121 © कुन्दन कुमार कर्ण © www.facebook.com/kundan.karna

मैथिली शायरी

गजल - भरल साओनमे नहि सताउ सजनी