सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

जून, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विशेष

प्रदेश-2 में फिर उपजा भाषा विवाद (हिन्दी अनुवाद)

केंद्र में सरकार बदलने से प्रदेश 2 भी अछूता नहीं रहा। परिणामस्वरूप, एक मंत्री और एक राज्य मंत्री के साथ नेकपा माओवादी (केंद्र) भी सरकार में शामिल हो गयी। माओवादी केंद्र की ओर से भरत साह ने आंतरिक मामला और संचार मंत्री के रूप में शपथ ली और रूबी कर्ण ने उसी मंत्रालय में राज्य मंत्री के रूप में शपथ ली। इससे पहले दोनों मंत्रियों ने अपनी मातृभाषा मैथिली में शपथ लेने का स्टैंड लिया था। पद की शपथ लेने के तुरंत बाद उन्होंने अफसोस जताया कि कानून में कमी के कारण वे अपनी मातृभाषा मैथिली में शपथ नहीं ले सके और कहा कि शपथ की भाषा पर असहमति के कारण शपथ ग्रहण समारोह में देरी हुई। लेकिन शपथ लेने के तुरंत बाद उन्होंने मातृभाषा में शपथ लेने पर अध्यादेश लाने की प्रतिबद्धता भी जताई। दोपहर तीन बजे दोनों मंत्रियों का शपथ ग्रहण होना था। लेकिन भाषा विवाद के चलते यह कार्यक्रम दोपहर 4 बजे शुरू हो सका। इनलोगों ने मैथिली भाषा में लिखा एक प्रतीकात्मक शपथ पत्र भी प्रदेश 2 के प्रमुख राजेश झा को सौंपा था। मातृभाषा मैथिली के प्रति प्रेम और स्नेह को लेकर प्रदेश 2 में चर्चा में आए मंत्री साह ने एक सप्ताह पहले एक कार्यक्

गजल

साँच नेह कहियो धोखा नै दए छै मोनमे बिछोड़क फोंका नै दए छै एक बेर जे बुझियौ छुटि गेल संगी बेर-बेर किस्मत मौका नै दए छै देखियोक लगमे अन्ठा देत सदिखन एक छुटलहा हिय टोका नै दए छै त्याग साधना आ नित चाही तपस्या साँच नेह ईश्वर ओना नै दए छै दोहराक कुन्दन नेहक बात नै कर साँझमे पराती शोभा नै दए छै मात्राक्रम : 212-122-222-122 © कुन्दन कुमार कर्ण

सुनू मेट्रो एफ.एम.सँ प्रसारित हमर अन्तरवार्ताक सम्पूर्ण अंश