Rss Feed
  1. गजल

    Friday, May 18, 2018

    ओकर संग ई जिनगीक असान बना देलक
    सुख दुखमे हृदयके एक समान बना देलक

    बुढ़हा गेल छल यौ बुद्धि विचार निराशामे
    ज्ञानक रस पिआ ओ फेर जुआन बना देलक

    अध्यात्मिक जगतके बोध कराक सरलतासँ
    हमरा सन अभागल केर महान बना देलक

    चाहक ओझरीमे मोन हजार दिशा भटकल
    अध्ययनेसँ तृष्णा मुक्त परान बना देलक

    अष्टावक्र गीता लेल विशेष गजल कुन्दन
    कहितेमे हमर मजगूत इमान बना देलक

    2221-2221-121-1222

    (तेसर शेरक पहिल मिसराक अन्तिम 
    लघुके दीर्घ मानबाक छूट लेल गेल अछि)

    © कुन्दन कुमार कर्ण
    Reactions: 
    |
    |


  2. Thursday, April 26, 2018

    तस्वीर: भोरूकवा (Sunshine)
    अार्ट: कुन्दन कुमार कर्ण

    Sunshine
    By: Kundan Kumar Karna



    Reactions: 
    |
    |


  3. गजल

    Monday, April 23, 2018

    तोरा बिना चान ताराक की मोल
    रंगीन संसार साराक की मोल

    अन्हारमे जे हमर संग नै भेल
    दिन दूपहरिया सहाराक की मोल

    चुप्पीक गम्भीरता बुझि चलल खेल
    लग ओकरा छै इशाराक की मोल

    संवेदना सोचमे छै जकर शुन्य
    नोरक बहल कोन धाराक की मोल

    अपने बना गेल हमरा जखन आन
    कुन्दन कहू ई विचाराक की मोल

    221-221-221-221

    © कुन्दन कुमार कर्ण
    Reactions: 
    |
    |


  4. गजल

    Sunday, April 8, 2018

    केओ सम्मानक भूखल 
    केओ पकवानक भूखल

    अपने आकांक्षा खातिर
    पण्डा भगवानक भूखल

    करनी धरनी छाउर सन
    नेता गुनगानक भूखल

    धरतीपर चल' नै जानै
    कवि छथि से चानक भूखल

    अपना चाहे जे किछु हो
    अनकर नुकसानक भूखल

    संतुष्टी सपना लोकक
    सब अनठेकानक भूखल

    22-222-22

    © कुन्दन कुमार कर्ण
    Reactions: 
    |
    |


  5. गजल

    Monday, March 5, 2018

    अस्तित्वमे अस्तित्व समा जेतै एक दिन
    अपनाक अपने संग मिला जेतै एक दिन

    बिनु शब्द आ संगीत मिलनके बेर प्रकृति
    शुन्ना समयमे गीत सुना जेतै एक दिन

    नै हम रहब नै देह रहत रहतै बोध टा
    दुख दर्द सब जिनगीक परा जेतै एक दिन

    मस्तिष्कके सुख दुखसँ उपर लेबै जे उठा
    आनन्दमे र्इ मोन डुबा जेतै एक दिन

    बहिते हृदयमे जोरसँ कुन्दन नेहक हवा
    चैतन्य केर ज्ञात करा जेतै एक दिन

    2212-221-1222-212

    © कुन्दन कुमार कर्ण
    Reactions: 
    |
    |


  6. बाल गजल

    Saturday, February 10, 2018

    पापा यौ चकलेट खेबै
    कनिये नै भरिपेट खेबै

    छुछ्छे कोना नीक लगतै
    नमकिन बिस्कुट फेंट खेबै

    हमहीं टा नै एसगर यौ
    संगी सभके भेंट खेबै

    मानब एके टासँ नै हम
    पूरा दू प्याकेट खेबै

    कुन्दन भैया आबि जेथिन
    बांकी ओही डेट खेबै

    222-221-22

    © कुन्दन कुमार कर्ण
    Reactions: 
    |
    |